Fundamentals of CAD CAM
July 21, 2019

You can read this article in English & Hindi.

Click to the Tabs for read this article

Introduction to Costing, Estimating & Contracting

[Index]
1. Importance of Costing & Cost Estimating in Manufacturing Organization
 1.1 Importance of Costing or Cost Accounting
 1.2 Importance of Cost Estimating
2. Importance of Contracting
3. Difference Between Estimating & Costing
 3.1 Qualification of an Estimator


1. Importance of Costing & Cost Estimating in Manufacturing Organization:
1.1 Importance of Costing or Cost Accounting:

– Costing and cost estimating is a type of accounting that is used to analyze and interpretation of production costs in the manufacturing unit.
– To determine if the technic of total production cost and Its method is called costing.
– The process of determining the cost of production and the method of keeping systematic records for it is called costing.

This cost has different definitions. The production process is spent on things like raw metals, manpower, parts, inspection, advertisement, transport. Note that these costs have been described in detail and accurately, through which, the method of determining the cost of production and the sale price of a product is called costing or cost accounting. The main objectives of the Costing are as below:

– Calculate the expenditure on the process of each production process and accordingly find the details required to find the sales price of the product.
– Controlling unnecessary expenditure, waste of materials and time, etc.
– Provide continuous information from time to time regarding changes in the product sales price.
– To determine the exact machines or process for the production of new machines or a new process, whether the production costs are low or not.
– Collecting information on making necessary correction decisions by comparing the production cost and the estimated cost of the product.
– Prepare estimates to fill the tender.
– Improve industry conditions by providing information to improve the weak aspect of the industry. Preparation of cost-data necessary for planning and control.
– Providing basic information for cost estimating.

Cost method keeps the calculation of production expenditure. It is important to study the calculation of these accounts to prevent waste of materials, unnecessary costs, time, etc. Provides basic information for controlling the inadequate consumption of inefficiency and productivity. The cost method is useful for preparing estimates for filling the tender. Provide reporting figures for reasons of increase or decrease in profits. Such figures support the rise in the efficiency of the industry by focusing on harmful activities. It creates profit and loss accounts. The cost of jobs, products, sales zones, and different departments equals costing. Using effective sources of small resources, the cost data can be taken to develop of improved product method. Use of cost data is of particular importance in making parts or making ready decisions from the market, making product plans, forecasting, increasing production or reducing production.

To achieve the goals of timely and continuous and hassle-free management, arrangements are being made to gather data and information in the technological edge of the industry. The printed form and systematic form maintains the harmony between money and accounts and accounts. Because such a system can be adapted from being flexible enough to be in the industry. Therefore, information about the product which is beneficial and which product is damaged by the cost account is given. It is known that it is a waste of goods or human hours in the industry. Therefore, cost accounting focuses on the weak aspect of the industry. Cost accounting management is helpful in making important decisions for making a product, such as manpower and materials to prevent spoilage and unnecessary. The management is also responsible for the cost of improving the production and loss of the product. Cost accounts are capable of presenting a clear picture of where and how each rupee used in the industry is used.

In the manufacturing unit, several processes are done to convert the material into Finnish product for the production of the product. Machines, manpower, and tools are used in every process. In addition to the expenses incurred on these matters, expenses such as administration, inspection, advertising, packaging, and transport have to be incurred. For each such cost, an accountant’s account is maintained to maintain. Technical staffs or engineers are taken to analyze the accounts and gainfully manage the manufacturing unit. It is possible to manage every industry operation efficient, effective and accurate and properly. Saving money, the industry can be retained in a competitive modern market with a superior quality product and there is information about where and how much can be done in the economy, there is a cost accounting system that is accurate about spending Provides cost accounting or cost method with information. So it can be said that cost is an important way to run the profitable business of the industry.

Clarke records the record of purchases, materials, sales, stocks, wages, time and costs for cost accounting. This record cost is given to the accountant. The Cost Accountant analyzes whether each aspect of each of these records is appropriate. This analysis sends a report prepared by the Chief Accounting Officer to the Cost Accountant, describing the waste of materials, man-made human hours, etc. By studying this report, the necessary information is received by the Finance Director. The finance director hands over this information to the managing director. According to the reports received from them, the industry is told and discusses how much damage is likely to happen and how to take steps to control it in the management of the industry. During the discussion, the order is given to implement by thinking of the solution for the industry to run properly. Thus, the long-term loss can be avoided by the management, which can improve immediate decision-making with continuous information. The role of cost accounting or costing is important for the entire operation.

1.2 Importance of Cost Estimating:

Cost Estimating In fact, the cost of getting the information about what the cost of the item will be before starting production.

With the definition of cost estimating, this process cost estimating can be calculated before starting production. The objectives of the cost estimating are as below:

– Inform the administrator of the production and sales policies.
– Preparation of information for payment of tenders and bills.
– Estimating the overhead cost to compare the actual cost and to find the difference and to increase the probability of checking.
– Determine the rate of salary of workers from time-study techniques.
– Decide to make any kind of part in the industry or to buy it from the market.
– Preparation of estimates to reduce the cost of product design improvement, wages, etc.

Cost estimating calculates of the material cost. Labor expenditure estimates are prepared according to production time and workers’ wages. The costs are estimated on tools and equipment. preparation of estimates of all overhead costs, including sales, administration, and distribution. Estimation of production expenditure, sales prices, sales revenue, and profits are made out of these expenditure data. Estimating makes several records with the attributes of each of these details, which are used to prepare estimates in the future. This section prepares details of production processes, materials, and product quality. Creates information to reduce product costs by changing product design and production process. Estimates are also prepared for the sale of the product. The factors related to estimates are as below:

– Design or drafting time
– Production control and planning
– Experimental work
– Material cost
– wage costs
– Overhead Expenses

Under the control of the production manager, cost estimation process has been divided into three main categories:

– The design of the product, to determine the accuracy of the finish.
– Preparation of estimates of the product’s production costs and sales price.
– To prepare product distribution schedule with the help of Manufacturing and Sales Department.

The cost estimating process is done as below:

– To create a list of each part of the product.
– It is decided in the decision about which parts to be made in the factory and which parts to buy from the market.
– For each product, it is necessary to find the material needed to calculate various concessions.
– The cost of material is prepared according to the market value of the material.
– Buying from outside and other indirect material costs are also prepared.
– Determination of machining time according to cutting speed and feed, to determine labor costs, according to the rates of salaries of find out the necessary operations, assembly, and test procedures, etc for preparing various products.
– Estimate the costs of machine tools and equipment.
– Find out the cost of the factory and general overhead.
– Find out the cost of packaging and distribution.
– Search for total production costs.
– To determine the sale price and catalog price of the profit added in the total production cost. This is given to the distributor in consideration of discount or commission.

Cost estimating has the following advantages:

– In each case, real expenditures are available.
– Need help to control the cost of production.
– Based on the estimated production price of the product, the price of its sale can be determined in advance.

The cost estimating calculates all the costs of manpower, materials, machines, tools, etc. Prior to starting production, there are estimation data for total product expenditure. Estimate data is also how profitable the production will be. Estimates are a high tech work, in which the full knowledge of the manufacturing method works to Estimeter for Estimate. Creates important decisions about expenditure estimates and profit beforehand by preparing information, whether to start production or not. These estimates give all necessary information to fill tenders and bills. Some products will be beneficial in the production of the competition in the market, but they do not already know about this cost estimate. The use of full knowledge of products and parts, information of finding parts, height and weight, information on market value, how many operations will be made to make the product, the cost of the parts purchased from the market, etc. According to this cost estimate, the beneficial management of the industry is possible with decisions related to production produced by the manufacturing organization. During the estimation and production comparison of the actual situation, the differences are useful in improving the production process for reducing false costs. Thus, the cost estimate is very important for manufacturing production tax making companies be profitable. According to the cost estimate, the production work direction indicates the success of the ship as a ship.

2. Importance of Contracting:

When a settlement is done to do some work between two generations or individuals, if this agreement can be legally enforceable, then such agreement is called contract. In this agreement, in written It is shown between the person who gives work and the person who accepts the job has accepted the terms. This agreement includes details such as full details of the work, financial transaction, and timeframe for the job. The process of the entire agreement is taken seriously because the matters related to accepting and giving the contract are serious. In the contract, the following conditions are laid down in the field of engineering:

– The condition to prevent the use of weak workforce and weak materials.
– The condition of delay of work and delay in completion of work.
– Contractor If the work is left incomplete then the provision to work from its expenditure.
– The condition of giving materials to the material provider, more material back.
– Conditions of making machinery on rent at the end of the rent.
– Payment to the contractor, payment before time, how it will be upright, see the details of the condition.
– Contractor, workman supervisor, to fully cooperate in the workplace investigation, his condition.
– The condition is that the workers who came to work to get the contractual facility of living, living space, etc.
– In the contract, If two parties are getting dispute that they can solve the dispute by the arbitrator.
– If the incomplete or complete work is toxic, then there is a condition to compensate him.

When some generation or industry wishes to do something for themselves because of doing some of their own work, then it is compromised under such conditions between the task handler and the supervisor. It is called contract for the provision of a legal settlement of this agreement. This is done by writing the agreement. In this agreement, conditions of work such as financial matters, contractual charges, full details of work, time of completion of work, etc. are displayed. The industry can not do all the tasks themselves to prove their purpose. The lack of resources is responsible for this. A load of other works in the industry also show some work from the contract. Suppose the electric motor orders a company to buy the bearings. The example of the contract for making available the material or parts supply is called. Civil engineering areas have come out of the tradition to give a contract to work to produce valid contractors. When the mechanical engineering field machines are contracted to establish, to purchase the material and to make some parts necessary for the production itself. Electrical engineering areas have to give the contract to wiring, substation standing, transmissions lines and to buy goods.

To contract, the proposals of contractors are invited from the sealed tenders or bills. The person who accepts the job is called a contractor. Sometimes the contractors are also unable to follow the terms of the contractors while working time. There is a dispute at this time. The solution for such disputes is to have a contract or a contractual agreement. The responsibility of facilitating the work of the contractor for accepting the responsibility of working, wages, water, electricity, service roads, equipment, etc. Many times the contractors are fully capable of doing specialized equipment or cargo work. Complete work in wages, complete supply of goods and complete contracts, etc. in all the work.

Determining the work from the contract is less regulated by the need for less staff. After giving contracts, the person who reduces the cost of goods or wages to boost the cost of a contractor does not have to spend much according to the promotion of the price. To give work from contract i.e., the work of expert and contract of that work gets profitable. Occasionally, the contractor’s information helps in the matter of designing the work. Continuous competition for taking intermediate work between contractors is facilitated in meeting the expenses. That is why it is cheaper to get the job done from the financially employed. Penalties are provided in the contract of work if the work is not completed in a fixed time frame. According to this condition, the contractor does not pay the amount of the payment, for that, the contractor completes the work in time. Therefore, the time plan for which the plan is to be completed, or the immediate benefit comes from it. When the work contractor does this, then the experts from the time-to-time assignment of the work keep checking the instrument, its ability, its comparison, its size, etc. used in the work. Or to check if the work is being done with poor work efficiency or weak capacity, also have to be checked. Therefore, the work given by the contract is according to its specifications. If the static specifications of this work are not preserved, the condition of the cancellation of the work is also unacceptable due to the fact that due to the agreement being kept in the contract. Many times the contractor cannot complete the work in a time-bound manner or leave the job incomplete. In such a case, the work is to be completed by another contractor. If you have to pay a higher price if you have to contract for some incomplete work with other contractors, then before the price, the contractor is in the conditioned contract to show the provision to get out of the incomplete bills. Therefore, the person who does the job does not have to spend any more to complete the work. Every beneficial description is shown above or there are more special features for the contractor.

3. Difference Between Estimating & Costing

The difference between estimating and costing is as follows:

Estimating Costing
1. The estimation of the profit or loss for the production. some product’s production Impact of profit-making for production, That type of decision is useful to increase or decrease or closing the production of some products. 1. After production from the costing, the details of expenses incurred for it can be searched by taking notes, analyzing profits or hazards.
2. The staff of the Estimates Department should be talented and experienced and the accounting or technical method should have a life of its own. 2. Costing can be done from the accounting officer, it is not necessary to have technical knowledge.
3. The production of the product is actually a method of estimating the expense or the profits associated with that product before starting it. 3. It is a method of determining the sale price of that product on the basis of to note in the correct form of the expenditure incurred during the production of the product..
3.1 Qualification of Estimator

– He must have complete information about the product and it’s parts.
– The shape of the parts should have its size and the ability to find its weight.
– Present or future price information or estimation should be itself.
– There should be information about how much time will be for the operation of the parts and for each operation.
– Must have the ability to estimate the price of parts for purchases made out of the outside.
– All the expenses incurred in the industry should be utilized for the total expenditure of the search.
– The ability to add profits in the product line should have the ability to make the sale price of the product.
– The estimation of the payment of tenders and bills should be so near.
– The production or sale policy can be designed to give useful instructions to the operation.

लागत(खर्च), अनुमान और करार का परिचय

[सुची]
१. उत्पादन संगठन में कोस्टिंग और लागत अनुमान का महत्व
 १.१ लागत या लागत लेखांकन का महत्व
 १.२ लागत अनुमान का महत्व
२. करार का महत्त्व
३. अनुमानित और कोस्टिंग के बीच का अंतर
 ३.१ अनुमानक की योग्यता


१. उत्पादन संगठन में कोस्टिंग और लागत अनुमान का महत्व:
१.१ लागत या लागत लेखांकन का महत्व:

– लागत और लागत लेखांकन एक प्रकार का लेखांकन है जिसका उपयोग निर्माण इकाई में उत्पादन लागत का विश्लेषण और व्याख्या की जाती है।
– उत्पादन की कुल लागत और इसकी विधि का निर्धारण करने के लिए एक कला को लागत कहा जाता है।
– उत्पादन की लागत का निर्धारण करने की प्रक्रिया और उसके लिए व्यवस्थित रिकॉर्ड रखने की विधि को कॉस्टिंग कहा जाता है।

यह लागत की अलग-अलग परिभाषाएँ हैं। उत्पादन प्रक्रिया में कच्ची धातुओं, जनशक्ति, पार्ट्स, निरीक्षण, विज्ञापन, परिवहन जैसी चीजों पर खर्च की जाती है। ध्यान दें कि इन लागतों को विस्तार और सटीक रूप से वर्णित किया गया है, उसके माध्यम से, उत्पादन की लागत और किसी उत्पाद की बिक्री मूल्य का निर्धारण करने की विधि को लागत या लागत लेखांकन कहा जाता हैं।लागत के मुख्य उद्देश्य निम्नानुसार हैं:

– प्रत्येक उत्पादन की प्रक्रिया पर होते हुए खर्च की गणना करना और उसके अनुसार उत्पाद की बिक्री मूल्य खोजने के लिए आवश्यक विवरण का पता लगाएं।
– अनावश्यक व्यय, सामग्री और समय की बर्बादी आदि को नियंत्रित करना ।
– उत्पाद की बिक्री मूल्य में परिवर्तन करने के संबंध में समय-समय पर लगातार जानकारी देना।
– नई मशीनों या नई प्रक्रिया से उत्पादन खर्च कम होता हैं या नहीं उसकी जानकारी ले के उत्पादन के लिए सही मशीनो या प्रक्रिया को निर्धारित करने के लिए।
– उत्पादन लागत और उत्पाद की अनुमानित लागत की तुलना कर के आवश्यक सुधार निर्णय लेना की जानकारी इकट्ठा करना।
– निविदा को भरने के लिए अनुमान तैयार करें।
– उद्योग के कमजोर पहलू को सुधारने के लिए जानकारी प्रदान करके उद्योग की स्थिति में सुधार करना। योजना और नियंत्रण के लिए आवश्यक लागत-डेटा तैयार करना।
– लागत अनुमान के लिए बुनियादी जानकारी प्रदान करना।

लागत विधि उत्पादन खर्च का हिसाब रखती है। यह हिसाब का अभ्यास सामग्री की बर्बादी, अनावश्यक लागत, समय आदि को रोकने के लिए इन खातों का अध्ययन महत्वपूर्ण है। बिनकार्यक्षमता और उत्पादनशक्ति की अपर्याप्त खपत को नियंत्रित करने के लिए बुनियादी जानकारी प्रदान करता है। निविदा भरने के लिए अनुमान तैयार करने के लिए लागत विधि उपयोगी है। मुनाफे में वृद्धि या कमी के कारणों के लिए रिपोर्टिंग आंकड़े प्रदान करते हैं। इस तरह के आंकड़े हानिकारक गतिविधियों पर ध्यान केंद्रित करके उद्योग की कार्यक्षमता में वृद्धि का समर्थन करते हैं। यह लाभ और हानि खाते बनाता है। जॉब, उत्पादों, बिक्री क्षेत्रों और विभिन्न विभागों की लागत के बराबरी कोस्तिंग से ही होती है। लघु स्रोतों का प्रभावी उपयोग करने के लिए सुधारी हुए प्रोडक्ट की विधि विक्साने के लिए लागत डेटा की मदद ली जा सकती हैं। पार्ट्स बनाने के लिए या बाज़ार में से तैयार खरीद ने के निर्णय लेने, प्रोडक्ट योजना बनाने, पूर्वानुमान, उत्पादन को बढ़ाना या उत्पादन को कम करने के लिए लागत डेटा का इस्तेमाल विशेष महत्व है।

समयबद्ध और निरंतर और परेशानी मुक्त प्रबंधन के लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए जो उद्योग की टेकनिकल बाजु सुद्रढ़ हो उसमे आंकड़े और जानकारी एकत्र करने की व्यवस्था की जा रही है। मुद्रित रूप और व्यवस्थित रूप धन, खातों और लागत खातों के बीच सामंजस्य बनाए रखता है। क्योंकि इस तरह की प्रणाली उद्योग में होने के लिए पर्याप्त लचीली होने से अनुकूलित किया जा सकता है। इसलिए, कॉस्ट अकाउंट से कौन सा प्रोडक्ट लाभदायक है और किस प्रोडक्ट का नुकसान होता है, इसकी जानकारी दी जाती है। यह उद्योग में मालसामान या मानव घंटे का बर्बाद होता हे उसकी जानकारी मिलती हैं। इसलिए, लागत खाते उद्योग के कमजोर पहलू पर ध्यान केंद्रित करते हैं। लागत लेखा प्रबंधन प्रोडक्ट बनाने के लिए महत्वपूर्ण निर्णय लेने में सहायक है, जैसे कि जनशक्ति और सामग्रियों को खराब होने और बेकार होने से रोकना। प्रोडक्ट का उत्पादन और नुकसान की प्रक्रिया में सुधार की लागत के लिए प्रबंधन भी जिम्मेदार है। लागत खाते उद्योग में उपयोग किए जाने वाले प्रत्येक रुपये का कहां और कैसे उपयोग किया जाता है, इसकी स्पष्ट तस्वीर पेश करने में सक्षम हैं।

निर्माण इकाई में, प्रोडक्ट के उत्पादन के लिए सामग्री का फिनिश प्रोडक्ट में परिवर्तित करने के लिए कई प्रक्रियाएं की जाती हैं। मशीनों, मैनपावर और टूल्स का इस्तेमाल हर प्रक्रिया में किया जाता है। इन मामलों पर किए गए खर्चों के अलावा, प्रशासन, निरीक्षण, विज्ञापन, पैकेजिंग और परिवहन जैसे खर्च करने पड़ते हैं। इस तरह के प्रत्येक खर्च के लिए एक लेखाकार के खाते को बनाए रखने और बनाए रखने के लिए बनाए रखा जाता है। खातों का विश्लेषण करने और निर्माण इकाई के लाभदायक प्रबंधन के लिए तकनीकी कर्मचारियों या इंजीनियरों को लिया जाता है। हर उद्योग कार्यवाही कार्यक्षम, प्रभावी और सटीक और ठीक से प्रबंधित करना संभव है। पैसा बचाना, एक बेहतर गुणवत्ता वाले प्रोडक्ट से ही उद्योग को प्रतिस्पर्धात्मक आधुनिक बाजार में बनाए रखा जा सकता है और अर्थव्यवस्था में कहां और कितना किया जा सकता है, इस बारे में जानकारी है, एक लागत लेखांकन प्रणाली है जो खर्च करने के बारे में सटीक जानकारी के साथ लागत लेखांकन या लागत विधि प्रदान करती है । तो यह कहा जा सकता है कि उद्योग के लाभदायक व्यवसाय को चलाने के लिए लागत एक महत्वपूर्ण तरीका है।

लागत लेखांकन के लिए परचेज़, सामग्री, सेल्स, स्टॉक, मजदूरी, समय और लागत के रिकॉर्ड का निर्माण रिकॉर्ड क्लार्क करते हैं। यह रिकॉर्ड लागत लेखाकार को दिया जाता है। कोस्ट अकाउंटेंट विश्लेषण करता है कि क्या इनमें से प्रत्येक रिकॉर्ड का अध्ययन करके प्रत्येक पहलू उपयुक्त है। यह विश्लेषण मुख्य लेखा अधिकारी द्वारा लागत लेखाकार को तैयार की गई एक रिपोर्ट भेजता है, जिसमें सामग्री, मानव-निर्मित मानव घंटे आदि की बर्बादी का विवरण दिया गया है। यह रिपोर्ट का अध्ययन करके आवश्यक जानकारी वित्त निदेशक को प्राप्त होती हैं। वित्त निदेशक इस जानकारी को प्रबंध निदेशक को सौंपता है। उनसे प्राप्त रिपोर्टों के अनुसार, उद्योग को कहा और कितना नुकशान होने की संभावना हैं और उसको नियंत्रित करने के लिए कैसे कदम उठाने चाहिए उसकी उद्योग के प्रबंधन में चर्चा करते हैं। चर्चा के दौरान, उद्योग सही तरीके से चले उसके उपायों सोच के उसको अमन करने का आदेश दिए जाते हैं। इस प्रकार, प्रबंधन द्वारा दीर्घकालिक नुकसान से बचा जा सकता है जो निरंतर जानकारी के साथ तत्काल निर्णय लेने में सुधार कर सकता है। पूरी कार्यवाही के लिए लागत लेखांकन या कोस्टिंग की भूमिका महत्वपूर्ण है।

१.२ लागत अनुमान का महत्व:

लागत अनुमान वास्तव में उत्पादन शुरू करने से पहले चीज़ की लागत कितनी होगी, इसके बारे में जानकारी प्राप्त करने की कला है।

लागत अनुमान की परिभाषा से, यह प्रक्रिया लागत अनुमानों का उत्पादन शुरू करने से पहले गणना की जा सकती है। लागत अनुमान के उद्देश्य इस प्रकार हैं:

– उत्पादन और बिक्री नीतियों के व्यवस्थापक को सूचित करना।
– निविदाओं और बिलों के भुगतान के लिए सूचना तैयार करना।
– ओवरहेड लागत का अनुमान वास्तविक लागत की तुलना करने और अंतर प्राप्त करने के लिए और जांच करने की संभावना को खड़ी करना।
– समय-अध्ययन तकनीक से श्रमिकों के वेतन की दर निर्धारित करना।
– किसी भी तरह का पार्ट उद्योग में बनाने या बाजार से खरीदने का निर्णय लेना।
– प्रोडक्ट की डिज़ाइन सुधार के सामग्री, मजदूरी आदि का नुकशान होने से बचा के खर्च को कम करने का अनुमान तैयार करना।

लागत अनुमान सामग्री खर्च की गणना करती हैं। उत्पादन समय और मजदूरो का वेतन अनुसार श्रम खर्च ला अंदाज तैयार किया जाता हैं। टूल्स और उपकरण पे होता खर्च का अनुमान लगते है। बिक्री, प्रशासन और वितरण सहित सभी ओवरहेड लागतों का अनुमान स्थापित करता है। उत्पादन व्यय, बिक्री मूल्य, बिक्री आमदनी और मुनाफे का अनुमान इन व्यय डेटा में से बनाया जाता हैं। एस्टिमेट इन विवरणों में से प्रत्येक की विशेषता वाले कई रिकॉर्ड बनाता है, जिनका उपयोग भविष्य में अनुमान तैयार करने के लिए किया जाता है। यह खंड उत्पादन प्रक्रियाओं, सामग्री और उत्पाद की गुणवत्ता का विवरण तैयार करता है। उत्पाद डिजाइन और उत्पादन प्रक्रिया को बदलकर उत्पाद की लागत को कम करने के लिए जानकारी बनाता है। उत्पाद की बिक्री के लिए अनुमान भी तैयार किए जाते हैं। अनुमान से जुड़े कारक निन्मानुसार हैं:

– डिज़ाइन या प्रारूपण समय
– उत्पादन नियंत्रण और आयोजन
– प्रायोगिक कार्य
– सामग्री लागत
– मजदूरी लागत
– ओवरहेड व्यय

उत्पादन प्रबंधक के नियंत्रण में लागत अनुमान प्रक्रिया को तीन मुख्य वर्गों में विभाजित किया गया है:

– प्रोडक्ट का डिजाइन, शुद्धता को फिनिश निर्धारित करने के लिए।
– प्रोडक्ट का उत्पादन खर्च और बिक्री किंमत का अनुमान तैयार करने के लिए।
– विनिर्माण और बिक्री विभाग की सहायता से प्रोडक्ट वितरण अनुसूची तैयार करने के लिए।

लागत अनुमान प्रक्रिया निम्नानुसार किया जाता है:

– प्रोडक्ट के प्रत्येक पार्ट्स की एक सूची बनाने के लिए।
– फ़ैक्टरी में कौन से पार्ट्स बनाने हैं और कौन से पार्ट्स बाज़ार से खरीदने है उसका फ़ैसले में यह तय किया जाता है।
– प्रत्येक प्रोडक्ट के लिए विभिन्न रियायतों की गणना के लिए आवश्यक सामग्री का खोज करना होता है।
– सामग्री की लागत का अनुमान सामग्री के बाजार मूल्य के अनुसार तैयार किया जाता है।
– बाहर से खरीदना और अन्य अप्रत्यक्ष सामग्री लागत भी तैयार की जाती है।
– कटिंग गति और फ़ीड के अनुसार मशीनिंग समय का अनुमान विभिन्न प्रोडक्ट तैयार करने के लिए आवश्यक ऑपरेशनो, विधानसभा और परीक्षण कार्यवाही आदि का समय खोजके वेतन के दरों के अनुसार श्रम लागत का पता लगाएं।
– मशीन टूल्स और उपकरणों की लागत का अनुमान लगाएं।
– कारखाने और सामान्य ओवरहेड की लागत का पता लगाएं।
– पैकेजिंग और वितरण की लागत का पता लगाएं।
– कुल उत्पादन लागत के लिए खोजें।
– कुल उत्पादन लागत में लाभ जोड़ के बिक्री मूल्य और सूची मूल्य निर्धारित करना। इसे वितरक को छूट या कमीशन को ध्यान में रखा जाता है।

लागत अनुमान से निम्नलिखित फायदे होते हैं:

– हरेक प्रकार की स्थिति में वास्तविक व्यय की जानकारी मिलती है।
– उत्पादन की लागत को नियंत्रित करने के लिए सहायता की आवश्यकता मिलती हैं।
– प्रोडक्ट की अनुमानित उत्पादन कीमत के आधार पर, इसकी बिक्री की कीमत पहले से निर्धारित की जा सकती है।

लागत का अनुमान जनशक्ति, सामग्री, मशीन, टूल्स, साधनों आदि की सभी लागतों की गणना करता है। उत्पादन शुरू करने से पहले कुल उत्पाद व्यय का अनुमान डेटा हैं। उत्पादन कार्य करने से कितना मुनाफा होगा उसका भी अनुमान डेटा हैं। अनुमान एक उच्च तकनीक वाला कार्य है, जिसमे विनिर्माण विधि का पुरे ज्ञानि एस्टीमेटरो अनुमान लगाने के कार्य करते हैं। व्यय अनुमानों और मुनाफे के बारे में पहले से जानकारी तैयार कर के , उत्पादन शुरू करने या न करने के बारे में महत्वपूर्ण निर्णय संचालन लेता हैं। ये अनुमान निविदाओं और बिलों को भरने के लिए सभी आवश्यक जानकारी देते हैं। बाजार में होने वाली प्रतियोगिता को लक्ष्य में लेक कुछ पप्रोडक्ट का उत्पादन लाभदायक होगा की नहीं उसकी पहले से ही जानकारी इस लागत अनुमान से मिलती हैं। प्रोडक्ट और पार्ट्स का पूर्ण ज्ञान का उपयोग, पार्ट्स के आकार, कद और वजन को खोजने की जानकारी, बाजार मूल्य की जानकारी, प्रोडक्ट बनाने के लिए कैसा और कितने ऑपरेशन किए जाएंगे उसकी जानकारी, बाजार से ख़रीदे हुए पार्ट्स की लागत, आदि जानकारिया वाले इस लागत अनुमान कार्य के अनुसार विनिर्माण संगठन द्वारा लिए गए उत्पादन से संबंधित निर्णयों से उद्योग का लाभदायक प्रबंधन संभव है। अनुमान और उत्पादन के दौरान वास्तविक स्थिति की तुलना से मिलते अंतरों प्रोडक्शन प्रक्रिया होते झूठे लागतों को निवारने के लिए सुधार करने में उपयोगी होते हैं। इस प्रकार, लागत अनुमान उत्पादन प्रक्रिया कर के प्रोडक्ट बनाने वाले विनिर्माण संगठन को लाभदायक होने के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। लागत अनुमान के अनुसार होते उत्पादन कार्य दिशा सूचक यंत्र से चलता जहाज के रूप में सफल होता है।

२. करार का महत्व:

जब दो पीढ़ियों या व्यक्तियों के बीच कुछ कार्य करने के लिए एक समझौता किया जाता है, यदि इस समझौते को कानूनी रूप से लागू किया जा सकता है, तो ऐसा समझौता को करार या कोन्ट्रेक्ट कहा जाता है। इस समझौते में, काम देने वाले व्यक्ति और कार्य स्वीकार करने वाले व्यक्ति के बीच जीन शर्तों का स्वीकार किया हो उसे प्रदर्शित किया जाता है। इस समझौते में कार्य का पूर्ण विवरण, वित्तीय लेनदेन और कार्य के लिए समय सीमा जैसे विवरण शामिल होती हैं। पूरे समझौते की प्रक्रिया को गंभीरता से लिया जाता है क्योंकि स्वीकार करने और स्वीकार करने से संबंधित मामले गंभीर हैं। करार में, इंजीनियरिंग के क्षेत्र में निम्नलिखित शर्तें रखी गई हैं:

– कमजोर कार्यबल और कमजोर सामग्रियों के उपयोग को रोकने के लिए शर्त।
– काम की देरी और काम पूरा होने में देरी रोकने की शर्त।
– ठेकेदार यदि कार्य को अपूर्ण छोड़ के जाये तब उसके ही खर्च से कार्य करने वाली प्रावधान।
– काम देने वाले से मटीरियल की देखरेख, अधिक मटीरियल वापिस देने की शर्त।
– ढेकेदार को किराय के तोर पर मशीनरी करने की शर्ते।
– ढेकेदार को भुगतान, समय से पहले भुगतान हो तोह उसकी वशुली कैसे होगी उसकी विवरण देखती शर्त।
– ढेकेदार, काम देने वाले वाले सुपरवाइजर को कार्य जांच पड़ताल में पूरा सहयोग दे उसकी शर्त।
– काम करने के लिए आये हुए मजदूरो को जीने की जरुरात्मन्द्की पानी, रहनेका ठिकाना जैसी सुविधाए देने का करार सुविधा मिले वैसी शर्त।
– इस ढेकेदार में से दो पार्टी के बिच में विवाद हो उसका आसानी से हल होने की शर्त।
– अधुरा या पूरा कार्य को अगर नुकशान हो तोह ढेकेदार उसकी भरपाई करने की शर्त।

जब कुछ पिढी या उद्योग खुद का कुछ कार्य खुद करने के वजह किसी दुसरे से करने की इच्छा रखता हो तब इस कार्य देने वाला और कार्य की देखरेख रखना ढेकेदार के बिच ऐसी शर्ते के आधीन समझौता किया जाता हैं। यह समझौता का क़ानूनी अमल करने का प्रावधान के लिए उसको करार या कोन्ट्रेक्ट कहा जाता हैं। यह करार लिख के किया जाता हैं। यह करार में कार्य की शर्ते जैसे की आर्थिक मामला, कोन्ट्रेक्ट का शुल्क, काम का पूरा विवरण, कार्य पूरा करने का समय आदि प्रदर्शित किए जाते हैं। उद्योग अपना उद्देश्य को सिद्ध करने के लिए हरेक कार्य खुद से नहीं कर पाते. संसाधनों की कमी इस के लिए जवाबदार हैं। उद्योग में अन्य कार्यो का बोज भी कुछ कार्य करार से करने को प्रदर्शित करता हैं। मानलो की बिजली की मोटर एक कंपनी बेरिंग्स खरीद ने का आदेश देता हैं। उसको सामग्री या पार्ट्स उपलब्ध करने का कोन्ट्रेक्ट का उदाहरण कहा जाता हैं। मान्य कोन्ट्रेक्टरो को निर्माण करने का कार्य कोन्ट्रेक्ट से देने का सिविल इंजीनियरिंग क्षेत्रे रिवाज ही निकल गया हैं। जब मैकेनिकल इंजीनियरिंग क्षेत्रे मशीनो को स्थापना करने के लिए, सामग्री को खरीद ने के लिए और खुद उत्पादन के लिए जरुरी कुछ पार्ट्स बनाने का कॉन्ट्रैक्ट किया जाता हैं। इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग क्षेत्रे वायरिंग, सबस्टेशनो खड़े करने का, ट्रान्स्मीशन लाइन्स और माल(गुड्स) खरीदने का कॉन्ट्रैक्ट देना होता हैं।

करार करने के लिए सीलबंध निविदाओं या बिलों से कॉन्ट्रैक्टरो की प्रस्ताव मंगवानी होती हैं। काम स्वीकार करने वाले को कॉन्ट्रैक्ट कहते हैं। कभी कभी कांट्रेक्टर, कार्य करते समय कॉन्ट्रैक्टरो की शर्ते का पालन करने में असक्षम भी रहते हैं। इस समय विवाद होता हैं। एसे विवादों का हल बोल के भी कॉन्ट्रैक्ट या करार्मे शर्त रखनी होती हैं। कार्य करने की जिम्मेदारी स्वीकारने वाला कांट्रेक्टर के कार्य के लिए मजदूरी, पानी, विजली, सर्विस रोड, साधनसामग्री आदि की सुविधा करने की जिम्मेदारी होती हैं। कई बार कांट्रेक्टर को विशेष प्रकार के यंत्रो या मालसामान कार्य करने में पूरा सक्षम हैं। मजदूरी कार्य करने में पूर्ण, मालसामान सप्लाई करने में पूर्ण और सभी कार्य करके देने में आदि कॉन्ट्रैक्ट होते हैं।

कॉन्ट्रैक्ट से कार्य करने का तय करने से कम देनेवाले को कम स्टाफ की जरुरत होने से उनको विनियमननियत्रण होता हैं। कॉन्ट्रैक्ट देने के बाद मालसामान या मजदूरीकी किंमत में होता बढ़ावा के लिए कॉन्ट्रैक्टरकी जिम्मेदारी होने से कम करने वाले को किंमत के बढ़ावा के अनुरूप ज्यादा खर्च नहीं होता। कॉन्ट्रैक्ट से कार्य देने के लिए यानि की उस काम के विशेषज्ञ और कॉन्ट्रैक्ट के अनुभव का मुनाफा मिल जाता हैं। कभी कभी कार्य डिज़ाइन करने के मामले में भी कांट्रेक्टर की जानकारिया का फायदा मिलता रहेता हैं। कॉन्ट्रैक्टरो के बिच कार्य लेने के लिए निरंतर प्रतिस्पर्था होने से कार्य कम खर्च में पूरा करने में सुविधा मिलती रहती हैं। इसलिए कार्य देने वाले का आर्थिक से कार्य कराना सस्ता होता हैं। कार्य के करार में निश्चित समय सीमा में अगर कार्य पूरा न हो तो पेनल्टी की शर्त की प्रावधान होती हैं। इस शर्त के अनुसार की पेनल्टी की रकम भुगतान नहीं करना हो उसके लिए ठेकेदार कार्य को निश्चित समय में पूर्ण कर देता हैं। इसलिए जो योजना करनी हो उसके लिए समयमर्यादा पूर्ण हो या तुरंत ही उस से होने वाले हरेक लाभ मिलने लगते हैं। इसे कार्य ठेकेदार जब करता हो तब समय समय कार्य को सौपने वाले का विशेषज्ञ से कार्य में उपयोग में आता हुआ साधनसामग्री, उसकी क्षमता, उसकी तुलना, उसकी साइज़ आदि की जाँच होती रहती हैं। या फिर कार्य कमजोर कार्य कुशलता से या कमजोर क्षमता से होने पर रोकने के लिए भी जाँच रखनी होती हैं। इसलिए कॉन्ट्रैक्ट से दिया हुआ कार्य उसका निर्धारित स्पेसिफिकेशन अनुसार होता हैं। यह कार्य के स्थिर स्पेसिफिकेशन संरक्षित न हो तो कार्य को रद करने की शर्त भी करार में रखी हुई होने से कार्य करने वालको कमजोर कार्य अस्वीकार्य हैं। कई बार ठेकेदार कार्य को समयमर्यादामें पूर्ण नहीं कर पाते या फिर कार्य को अपूर्ण छोड़ के चले जाते हैं। एसे मामले में कार्य अन्य ठेकेदार के पास पूरा करवाना होता हैं। अन्य ठेकेदार के साथ कुछ अधूरे कार्य करने के लिए जो कॉन्ट्रैक्ट होता हैं उसमे जो अधिक किंमत अगर देनी पड़े तो उस किंमत से पहले ठेकेदार के अधूरे बिलों में से पलेने का प्रावधान दिखातीशर्त करार में होती हैं। इसलिए कार्य कराने वाले को कार्य पूर्ण करने के लिए कोई अधिक खर्च करना नहीं होता। हरेक लाभकारी विवरण ऊपर दिखाए गए हैं या कांट्रेक्टिंग कार्य कराने वाले के लिए ज्यादा विषेश रीत हैं।

३. अनुमानित और कोस्टिंग के बीच का अंतर

अनुमानित और कोस्टिंग के बीच का अंतर निन्मानुसार हैं:

अनुमानित कोस्टिंग
१. उत्पादन के लिए मुनाफा-नुकशान का अंदाज, कुछ प्रोडक्ट का उत्पादन बढ़ाना या घटाना या फिर बांध करना वैसे फेसला लेना उपयोगी हैं। १. कोस्टिंग से उत्पादन होने के बाद उसके लिए होते खर्च का विवरण को नोंध लेके उसका विश्लेषण करके , मुनाफा या नुकशान खोजा जा शकता हैं।
२. अनुमान विभाग का स्टाफ तालीमम्बद्ध और अनुभवी और लेखांकन करने वाला या तकनिकी पद्धति का जान ने वाला होना चाहिए। २. हिसाब करनेवाला से कोस्टिंग की कार्यवाही हो शकती हैं, उसको तकनिकी ज्ञान हो एसा जरुरी नहीं हैं।
३. प्रोडक्ट का उत्पादनकार्य वास्तव में शुरू करने से पहले उसमे होता खर्च या उस प्रोडक्ट से मिलता हुआ मुनाफा का अंदाज करने के पद्धति हैं। ३. प्रोडक्ट उप्तादन दौरान होते खर्च की सही रूप में नोंध कर के उसके आधार पर उस प्रोडक्ट की बिक्री किंमत तैय करने की पद्धति हैं।
३.१ अनुमानक की योग्यता

– उसको प्रोडक्ट और उसके पर्त्सकी पूरी जानकारी होनी चाहिए।
– पार्ट्स के आकर से उसका साइज़ और उसका वजन खोजने की क्षमता होनी चाहिए।
– वास्तविक और भविष्य की किंमत की जानकारी या अंदाज होना चाहिए।
– पार्ट्स बनाने के लिए ऑपरेशन और हरेक ऑपरेशन के लिए कितना समय होगा उसके बारे में जानकारी होनी चाहिए।
– बहार से तैयार खरीद के लिए पार्ट्स की किंमत का अंदाज निकलने की क्षमता होनी चाहिए।
– उद्योग में करने होते सभी खर्च की जानकारी उपयोग में ले के उसका कुल खर्च खोज शके वैसे होने चाहिए।
– उत्पदंखार्च में मुनाफा जोड़ने का कौशल से प्रोडक्ट की बिक्री किंमत तैय करने की उसकी क्षमता होनी चाहिए ।
– निविदाओं और बिलों के भुगतान करने का अंदाज निकाल शके एसे होना चाहिए।
– उत्पादन की या बिक्री की नीति बना शके उसके लिए संचालन को उपयोगी निर्देश दे सके एसे होने चाहिए।

4 Comments

  1. Best Sale Honda says:

    Thank you, I have just been searching for information about this topic for a
    while and yours is the best I’ve found out till now.
    However, what concerning the bottom line? Are you positive concerning the source?

  2. situs bandarq online says:

    Hоwdy! I’m att woгk browsing your blog from my new apple iphone!
    Just wanted to say I love reading your blog and look
    forward to all your posts! Carry oon the excellent work!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Donate Us
error: Content is protected !!