Fundamentals of CAD CAM
July 21, 2019

You can read this article in English & Hindi.

Click to the Tabs for read this article

Elements of cost & overhead allocation

[Index]
1. Definition and Classification of Cost Elements
 1.1 Material Cost
  1. Direct Material Cost
  2. Indirect Material Cost
 1.2 Labor Cost
  1. Direct Labor Cost
  2. Indirect Labor Cost
 1.3 Other Expenses or Overheads
  1. Direct other expenses or Direct Expenses
  2. Indirect costs, Overhead Expenses or Overheads
   a. Factory overhead or work on cost
   b. Administrative or office overhead
   c. Sales or distribution overhead
 1.4 Fixed & Variable Overhead
  1. Fixed Overhead
  2. Variable Overhead
3. Determination of Selling Price & Catalogue Price
 1. Prime Cost
 2. Factory Cost
 3. Production Cost
 4. Total Cost
 5. Selling Price
 6. Catalogue Price
3.1 Block Diagram of Selling Price & Catalogue Price
3.2 Examples of different costs, sales tax, catalog pricing and profits or loss calculations from the given details


1. Definition and Classification of Cost Elements:
Through enterprise management, it is properly addressed to know the cost-fixing elements. Considering the various costs incurred during the production process, the total production costs of the product have been discovered. Those costs are classified into specific categories for calculation purposes. So it is possible to share expenses in different categories. The costs incurred on the product are classified into the following three elements:
1.1Material Cost
1.2Labor Cost
1.3.Other Expense or Overheads

1.1 Material Cost:
There are two types of Material Cost:
1.Direct Material Cost
2.Indirect Material Cost

(1) Direct Material Cost:
By going through some process, which is converted to the nature of the material, it is called the direct material. This material is also called material and productive material. This material is a part of the material product. This material cost is called “direct material cost”. Some examples of direct material are given below:
– Cast iron gear blank to make gear
– Wood for furniture
– Constructions for cement, sand, gravel and iron
– Parts of assembly such as bearing, shaft, electric fittings
– High speed steel material for cutters, drill bit and reamer
– Aluminum material for piston

There are two types of direct material:
a) Visible material
b) Invisible Material

Example: In Lath Mandrill, it can be seen after being used as a cast iron product to make mild steel and vice used. Because it has its existence in the product. So it is called Visible Direct Material. But when it is machined to make a mandrill, then the cutting tool used by the tool is made directly from the material, but it can not be seen as a product. Its form may not exist. Therefore, It is called Invisible Direct Material.

(2) Indirect Material Cost:
Some materials used in the production of the product do not form part and part of the product. Still, it is worth using. Cotton West, Fuel, Cutting Fluid, Grease, Kerosene, Lubricants, Pattern Material, Belt Fasteners, etc. are materials of this method. It is called Indirect material and its material expenses are called direct material costs.

1.2 Labor Cost:
There are two types of labor cost:
1. Direct Labor Cost
2. Indirect Labor Cost

(1) Direct Labor Cost:
Direct labor involves the workers who do the material process from hand or from the machine. It is included. To calculate the direct labor expenditure, this method has to take the basis of the timing of Labor’s salary and the time taken for the production work. Labor of this method is also called productive labor and for that, the wages can be charged on the cost of the product. Some examples of direct workers include welders, turners, machine operators, pattern makers, molders, painters and assembly fitters, etc.

(2) Indirect Labor Cost:
Labor should not be directly linked to the production of the product, but the labor is called indirect labor if it needs service. The expenses incurred for such labor are called indirect wages expenses. This indirect wages cannot be spent on the cost of product costs. Therefore, this expenditure is to be converted to overhead cost. Indirect Labor is called non-productive labor. Some examples of indirect labor are foremen, supervisor, peon, sales and purchase staff, office staff, design and drawing staff, maintenance staff, crane driver, labor officer, showpiece charge man of the shop, Job Inspector, Watchman, Manager, etc.

1.3 Other Expenses or Overheads:
There are two types of other expenses or overheads:
1. Direct Other Expenses or Direct Expenses
2. Indirect costs, Overhead Expenses or Overheads

(1) Direct Other Expenses or Direct Expenses:
To make a product, jigs, fixtures, dyes, tools, patterns, experimental work, design, drafting, molding, etc are to be spent before work. Regardless of expenditure, it is different for different products. That is why it is involved in the production of the product, it is also included in the list of expenses for that product. The expenditure and other expenses of this method include the expenditure of maintenance of machines, the expenditure of rejected product, an expenditure of newly purchased parts and any special layout which is included in the expenditure.

(2) Indirect costs, Overhead Expenses or Overheads:
At this expense, all expenses are included in the direct material, direct labor and other direct expenses. This expense is not chargeable on any product, but every product has to charge a certain quantity. This cost is also called on cost or burden. The main types of this expenditure are given below:
a) Factory overhead or work on cost.
b) Administrative or office overhead
c) Sales or distribution overhead

(a) Factory overhead or work on cost:
In the factory overhead expenditure, the expenses incurred to run the plant or factory and administrative machinery of the factory include:
– The cost of water in factory, lighting
– Factory building rent
– Expenditure on building of factory, machinery and furniture
– Supervisor, foreman, charge man and maintenance engineer’s salary
– Premium of Insurance of Factory and Machinery
– Welfare, Rest Room, Recreation such as many numbers of Expenses
– Plant and Machinery Repairing cost, Maintenance Expenses

(b) Administrative or office overhead:
The administrative unit of this industrial unit, outside the production factory, joins the administrative or office overhead of the expenses incurred in other departments, municipal administrative offices or offices. Here are some examples of this overhead:
1. Salary of Directors, Manager, Office Staff etc.
2. Cost of stationery, printing, postage, wire, telephone, fax, internet, computer etc.
3. Office furniture, building expenses
4. Audit Expenses
5. Bank loan interest, insurance, tax, legal advice expenses

(c) Sales or distribution overhead:
The cost to reach the product in the market and to the customer is the cost of selling it. The amount spent for the sale and distribution of the product is called a sale or distribution overhead. All overhead expenses are also included for the sale of this overhead expense. Some examples of overhead are given below:
– Salaries of the Sales department’s staff
– Cost of Poster, Film, Newspaper, Magazine, TV and the advertisement of the product through the cable.
– Demonstration expenses
– Commissions given to salesmen, distributor, salesman
– Sales department’s rent, telephone, stationery, power expenses
– The cost of the Consumer Service or the after Sales Service
– Packing, Forwarding and Transportation Expenses
– The sale’s room or rent of the office

1.4 Fixed and variable overheads:
(1) Fixed overhead:
Fixed overhead is an indirect cost, which remains fixed even when the output size fluctuates. Examples of these costs are as below:
– Rent of factory or office house
– Premium of insurance policy
– Depreciation cost of buildings, plants, machinery and furniture
– Salary for Engineers, Supervisor, Managing Director etc.
– Poster, wire, telephone charges

(2) Variable overhead:
Fluctuation in the evidence of increasing or decreasing the production size of the product is known as variables or moving cost. All these expenses are only indirect expenses. The variable overhead is also called floating overhead. The examples of these costs are as below:
– Plant and Machinery Repair, Maintenance Expenses
– The cost of material handling, lighting and heating in the plant
– Indirect labor and indirect material cost
– Trade discount
– Packing, Forwarding and Transportation Expenses
– After expenses (after sales services) etc. cost
– electricity and fuel consumption cost
– Tolling cost

3. Determination of Selling Price & Catalogue Price:
To calculate the selling price of the product, calculate the cost of the components below. Plus, by adding of all the components can be calculated the total cost of the product. by adding the profits in the total cost or by adding the profit or removing the loss can calculate to the selling price of the product in the total cost.

The price which comes from adding the selling price of the product to the distributor’s commission is called a catalogue price.

The cost of producing a product for any product, the expenses incurred for making the product are given below:
1. Prime Cost
2. Factory Cost
3. Production Cost
4. Total Cost
5. Selling Price
6. Catalogue Price

(1) Prime Cost:
The cost which comes with the addition of direct material, direct labor and other direct expenses is called the prime cost.

Prime Cost (P.C.) = Direct Material Cost (D.M.C.) + Direct Labor Cost + Other Direct Cost (O.D.E.)

P.C. = D.M.C. + D.L.C. + O.D.E.

(2) Factory Cost:
The cost which comes from adding the factory overhead expense to the prime cost is called a factory cost.

Factory Cost (F.C.) = Prime Cost (P.C.) + Factory overhead (F.O.)

F.C. = P.C. + F.O.

(3) Production Cost:
The cost which comes from adding of factory cost and administrative overhead is called the production cost.

Production Cost (Pro.C.) = Factory Cost (F.C.) + Administrative Overhead (A.O.)

Pro.C. = F.C. + A.O.

(4) Total Cost:
The cost which comes from adding of production cost and sales & distribution overhead is called the total cost.

Total Cost (T.C.) = Production Cost (P.C.) + Sales and Distribution Overhead (S.D.O.)

T.C. = P.C. + S.D.O.

(5) Selling Price:
The cost which comes from adding of total cost and profit or from subtract of total cost and loss is called the selling price.

Selling Price (S.P.) = Total Cost (T.C.) + Profit (P.)

S.P. = T.C. + P.

(6) Catalogue Price:
The price which comes from adding of the selling price and the discount of distributor is called the catalogue price.

catalogue Price (C.P.) = Selling Price (S.P.) + Discount or Commissions (D.)

C.P. = S.P. + D.

Or

Selling price (S.P.) = Catalogue Price (C.P.) – Discount or Commission (D.)

S.P. = C.P. – D.

3.1 Block Diagram of Selling Price & Catalogue Price

3.2 Examples of different costs, sales tax, catalog pricing and profits or loss calculations from the given details:

मूल्य के घटकों और ओवरहेड खर्च का बॅटवारा

[सुची]
१. मूल्य के घटकों की परिभाषा और उनके वर्गीकरणः
 १.१ मटीरियल कोस्ट
  १. डायरेक्ट मटीरियल कोस्ट
  २. इनडायरेक्ट मटीरियल कोस्ट
 १.२ मजदूरी खर्च
  १. डायरेक्ट मजदूरी खर्च
  २. इनडायरेक्ट मजदूरी खर्च
 १.३ अन्य खर्चे या शिरोपरी खर्च
  १. डायरेक्ट अन्य खर्च या डायरेक्ट खर्च
  २. इनडायरेक्ट खर्च, शिरोपरी खर्च या ओवरहेड
   a. फेक्टरी ओवरहेड या वर्क ओन कोस्ट
   b. प्रशासनिक या ओफिस ओवरहेड
   c. बिक्री य़ा वितरण ओवरहेड
 १.४ फिक्स्ड और वेरियेबल ओवरहेड्स
  १. फिक्स्ड ओवरहेड
  २. वेरियेबल ओवरहेड
२. ओवरहेड खर्च की परिभाषा, उसका श्रेणीकरण और बँटवारा
 २.१ ओवरहेड्स का वर्गीकरण:
 २.२ ओवरहेड आवंटन:
  १. प्रत्यक्ष सामग्री खर्च के प्रतिशत के अनुसार:
  २. प्रत्यक्ष श्रम खर्च के प्रतिशत के अनुसार:
  ३. प्राइम खर्च के प्रतिशत के अनुसार
  ४. मेन घंटे का दर का तरीका:
  ५. मशीन घंटे का दर का तरीका:
  ६. मेन और मशीन घंटे का संयुक्त दर का तरीका:
  ७. यूनिट रेट का तरीका:
 २.३ विभिन्न वर्गों में ओवरहेड का वितरण (ओवरहेड्स का आवंटन):
३. प्रोडक्ट की सेलिंग प्राइस और केटलोग प्राइस का निर्धारण
 १. प्राइम कोस्ट
 २. फेक्टरी कोस्ट
 ३. प्रोडक्शन कोस्ट
 ४. कुल खर्च
 ५. सेलिंग प्राइस
 ६. केटलोग प्राइस
३.१ सेलिंग प्राइस और कैटलॉग प्राइस का ब्लॉक डायग्राम
३.२ दिए गए विवरणों से विभिन्न खर्चे, बिक्री खर्चे, कैटलॉग की कीमतों और मुनाफे या हानि की गणना के उदाहरण:


१. मूल्य के घटकों की परिभाषा और उनके वर्गीकरणः
उद्यम प्रबंधन के माध्यम से मूल्य के निर्धारण घटकों को जान के उसको ठीक से बाट दिया जाता है। सामग्री मे से उत्पाद बनाने की प्रक्रिया के दौरान किए गए विभिन्न खर्चों को ध्यान में रखते हुए, उत्पाद की कुल उत्पादन खर्च की खोज की जाती है। इसे खर्चकी गणना करने के उद्देश्य से विशिष्ट श्रेणियों में वर्गीकृत किया जाता है। इसलिए विभिन्न श्रेणियों में खर्च को वितरित करना संभव है।
उत्पाद पर किए गए खर्चों को निम्नलिखित तीन घटकों में वर्गीकृत किया गया है:
1. मटीरियल कोस्ट या सामग्री खर्च
2. लेबर खर्च या श्रम खर्च या मजदुरी खर्च
3. अन्य खर्चे या शिरोपरी खर्च

१.१ मटीरियल कोस्ट (Material Cost):
मटीरियल कोस्ट (Material Cost) के दो प्रकार हैः
1. डायरेक्ट मटीरियल कोस्ट (Direct Material Cost)
2. इनडायरेक्ट मटीरियल कोस्ट (Indirect Material Cost)

(१) डायरेक्ट मटीरियल कोस्ट (Direct Material Cost):
कइ सारी प्रकियाऔ मैसे पसार हो कर जो मटीरियल प्रोडकट के स्वरूप मै रूपान्तरित होता है उसको डायरेक्ट मटीरियल कहते है। इस तरिके के मटीरियलको मालसामान ओर प्रोडकटीव मटीरियलभी कहते है। इस तरिके के मटीरियल प्रोडकटका एक भाग है। इस तरिके के मटीरियलकी कोस्टको “डायरेक्ट मटीरियल कोस्ट” कहते है।

डायरेक्ट मटीरियल के कुछ उदाहरन नीचे दिये गये हैः
– गीयर बनाने की कास्ट आयर्न गीयर ब्लेन्क
– फर्निचर के लिए लकडी
– बांधकाम के लिए सिमेन्ट, रेत, ग्रेवाल और लोहे के सलिये
– एसेम्बली की बेरिंग, शाफ्ट, इलेक्ट्रिक फिटिंग जैसे पार्ट्स
– कटर, ड्रीलबीट और रीमर के लिए हाइस्पिड स्टील मटीरियल
– पिस्टन के लिए एल्युमिनियम मटीरियल

डायरेक्ट मटीरियल के दो प्रकार हैः
a) विझिबल मटीरियल
b) इन्विझिबल मटीरियल

उदाहरनः लेथ मेन्ड्रील मे युझ कियागया हुआ माइल्ड स्टील और वाइस बनाने के लिये युझ कियागया हुआ कास्ट आयर्न प्रोडक्ट बन जाने के बाद भी देख शकते है। क्योकी उसका प्रोडक्ट मे अस्तित्व है। इसलिए उसको विझिबल डायरेक्ट मटीरियल कहते है। परंतु मेन्ड्रील बनाने के लिए जब उसका मशीनिंग करवाना हो तब युझ कियागया हुआ कटिंग टूल मटीरियल मे से प्रोडक्ट बना ने के लिए सीधा उपयोग मे लिया हुआ हो फिर भी उसको प्रोडक्ट के रूप मे नहि देख शकते। उसका रूप अस्तित्व मे नहि होता। इसलिए उसको इन्विझिबल डायरेक्ट मटीरियल कहते है।

(२) इनडायरेक्ट मटीरियल कोस्ट (Indirect Material Cost):
प्रोडक्ट का उत्पादन मे युझ कियेगये हुए कुछ मटीरियल्स प्रोडक्ट का हिस्सा ओर भाग बनते नहिं। फिर भी उसका उपयोग करना ही पडता है। कोटन वेस्ट, फ्युअल, कटिंग फल्युइड, ग्रीस, केरोसीन, ल्युब्रीकन्ट्स, पेटर्न मटीरियल, बेल्ट फास्टनर्स इतयादी इस तरीके के मटीरियल्स होते है। उसको इनडायरेक्ट मटीरियल कहते है ओर उसके खर्चेको इनडायरेक्ट मटीरियल कोस्ट कहते है।

१.२ मजदूरी खर्च (Labour Cost):
मजदूरी खर्च (Labour Cost) के दो प्रकार हैः
1. डायरेक्ट मजदूरी खर्च(Direct Labour Cost)
2. इनडायरेक्ट मजदूरी खर्च(Indirect Labour Cost)

(१) डायरेक्ट मजदूरी खर्च (Direct Labour Cost):
डायरेक्ट मजदूरी मे जो कामदार हाथ से या मशीन से मटीरियल प्रोसेसिंग करते है उसका समावेश होता है। डायरेक्ट मजदूरी खर्च का केल्क्युलेसन करने के लिये इस तरीके का लेबर का वेतन के दर और उत्पादन कार्य मे उसने लिये हुए समय का आधार लेना पडता है। इस तरीके के लेबर को प्रोडक्टिव लेबर भी कहा जाता है और उसके लिये होता मजदूरी खर्च के प्रोडक्ट उपर चार्ज करा शकते है। डायरेक्ट मजदूरो के कुछ उदाहरनो वेल्डर, टर्नर, मशीन औपरेटरो, पेटर्न मेकर, मोल्डर, पेन्टर और एसेम्बली फीटर विगेरे।

(२) इनडायरेक्ट मजदूरी खर्च (Indirect Labour Cost):
प्रोडक्ट के उत्पादन मे सीधा जुडा हुआ न हो पर उसको सेवा की जरूरत पडती हो वेसे लेबर को इनडायरेक्ट लेबर कहते है। एसे लेबर के लिये होते हुए खर्च को इनडायरेक्ट मजदूरी खर्च कहते है। ये इनडायरेक्ट मजदूरी खर्च को प्रोडक्ट खर्च तरीके से चार्ज नही कर शकते। इसलिये इस खर्च को शिरोपरी खर्च(Overhead Cost) मे तबदील करना होता है। इनडायरेक्ट लेबर को नोन प्रोडक्टिव लेबर कहते है। प्रोडक्टिव लेबर के कुछ उदाहरनो फोरमेन, सुपरवाइजर, प्योन, सेल्स और परचेझ स्टाफ, ओफिस स्टाफ, डिजाइन और ड्रोइंग स्टाफ, मेइन्टेनन्स स्टाफ, क्रेइन ड्राइवर, लेबर ओफिसर, शोप के चार्जमेन, जोब इनस्पेक्टर, वोचमेन, मेनेजर विगेरे।

१.३ अन्य खर्चे या शिरोपरी खर्च (Other Expenses or Overheads):
अन्य खर्चे या शिरोपरी खर्च (Other Expenses or Overheads) के दो प्रकार हैः
1. डायरेक्ट अन्य खर्च या डायरेक्ट खर्च (Direct Expenses)
2. इनडायरेक्ट खर्च, शिरोपरी खर्च या ओवरहेड (Indirect Expenses or Overheads)

(१) डायरेक्ट अन्य खर्च या डायरेक्ट खर्च (Direct Expenses):
प्रोडक्ट बनाने के लिये जीग्स, फिक्ष्चर्स, डाइ, टूल्स, पेटर्न, प्रायोगिक कार्य, डिझाइन, ड्राफ्टिंग, मोल्डिंग विगेरे कार्यो के पिछ खर्च करना होता है। खर्च की बाबते अलग अलग प्रोडक्ट के लिये अलग अलग होती है। इस लिये वह प्रोडक्ट के उत्पादन मेयह खर्च होता है वोहि उस प्रोडक्ट के खर्च के लिस्ट मे सामिल होता है। इस तरीके के खर्चे और अन्य खर्च मे मशीनो की देखभाल का खर्च, रीजेक्ट प्रोडक्ट का खर्च, नये खरीदे हुए पार्ट्स का खर्च और जो कोइ खास ले-आउट बनाना हो तोह उसका खर्च को भी सामिल होता है।

(२) इनडायरेक्ट खर्च, शिरोपरी खर्च या ओवरहेड (Indirect Expenses or Overhead):
इस खर्चे मे डायरेक्ट मटीरियल, डायरेक्ट लेबर और अन्य डायरेक्ट खर्चे के सिवाह सभी खर्चे सामिल होते है। यह खर्च किसीभी प्रोडक्ट पे चार्ज नहिं होता पर हर प्रोडक्ट पे कुछ मात्रा मे चार्ज करवाना होता है। इस खर्च को ओन-कोस्ट या बोज(On cost or Burdon) भी कहा जाता है। इस खर्च के मुख्य प्रकार नीचे दिये गये हैः
a) फेक्टरी ओवरहेड या वर्क ओन कोस्ट (Factory overhead or work on cost)
b) प्रशासनिक या ओफिस ओवरहेड (Administrative or office overhead)
c) बिक्री य़ा वितरण ओवरहेड (Sales and distribution overhead)

(a) फेक्टरी ओवरहेड या वर्क ओन कोस्ट (Factory overhead or work on cost):
फेक्टरी ओवरहेड खर्च मे प्लान्ट या फेक्टरी और फेक्टरी का प्रशासनिक चलाने के लिए नीचे दिए गए खर्चे सामिल होते हैः
1. फेक्टरी मे होता पानी, लाइटींग और बडतण का खर्च
2. फेक्टरी की बिल्डिंग का किराया
3. फेक्टरी की बिल्डिंग, मशीनरी और फर्निचर का खर्च
4. सुपरवाइजर, फोरमेन, चार्जमेन और मेइन्टेनन्स एन्जिन्यरो की सेलरी
5. फेक्टरी और मशीनरी के बीमा का प्रिमियम
6. वेल्फेर, रेस्ट रूम, रिक्रीएशन जैशे बहुत सारे खर्चे (Sundry Expenses)
7. प्लान्ट और मशीनरी रीपेरिंग, मेइन्टेनन्स खर्चे

(b) प्रशासनिक या ओफिस ओवरहेड (Administrative or office overhead):
प्रोडक्ट का उत्पादन करती फेक्टरी के बाहर इस औध्योगिक एकम का प्रशासनिक चलाना, अन्य विभागो, मेइन प्रशासनिक कचेरी या ओफिस मे होते खर्चे का प्रशासनिक या ओफिस ओवरहेड मे सामिल होता है। इस ओवरहेड के कइ उदाहरन नीचे दिए गए हैः
– डायरेक्टरो, मेनेजर, ओफिस स्टाफ विगेरे की सेलरीया।
– स्टेशनरी, प्रिंन्टिंग, पोस्टेज, तार, टेलिफोन, फेक्स, इन्टरनेट, कंम्प्युटर विगेरे के खर्चे।
– ओफिस फर्निचर, बिल्डिंग का खर्च
– ओडिट खर्च
– बेन्क लोन का ब्याज, बिमा, टेक्स, कानुनी-सलाह खर्च विगेरे।

(c) बिक्री य़ा वितरण ओवरहेड (Sales and distribution overhead):
प्रोडक्ट को बाजार मे और ग्राहक के पास पहुचाने का खर्च होता है उसको बिक्री य़ा वितरण कहते है। प्रोडक्ट की बिक्री और वितरण के लिये की गइ सुविधाये देने के लिये कीए गए खर्च को बिक्री य़ा वितरण ओवरहेड कहते है। इस ओवरहेड खर्च मे बिक्री बधाने के हेतु से कीए गए सारे खर्चे भी सामिल होते है। शिरोपरी खर्च के कुछ उदाहरन नीचे दिए हुए हैः
– बिक्री विभाग के स्टफ की सेलरी
– पोस्टर, फिल्म, न्युझपेपर, मेगेझिन, टी.वी. और केबल के माघ्यम से कीए जाते प्रोडक्ट की एड्स का खर्च
– डेमोन्स्ट्रेशन खर्च
– सेल्समेन, डिस्ट्रिब्युटर, मेनेजर को दिए जानेवाला कमिशन
– सेल्स विभाग का कीराया, टेलिफोन, स्टेशनरी, बीजली खर्च
– कन्झ्युमर सर्विस या ओफ्टर सेल्स सर्विस का खर्च
– पेकिंग, फोर्वडिंग और ट्रान्सपोर्टेशन खर्च
– सेल्सरूम या ओफिस का कीराया

१.४ फिक्स्ड और वेरियेबल ओवरहेड्स (Fixed and variable overheads)
(१) फिक्स्ड ओवरहेडः
फिक्स्ड ओवरहेड एक अप्रत्यक्ष खर्च है, जो उत्पादन आकार मे उतार-चढ़ाव होता है तब भी फिक्स्ड रहता है । इस खर्च के उदाहरण इस प्रकार हैं:
– फेक्टरी या ऑफिस हाउस का किराया
– बीमा पॉलिसी का प्रीमियम
– भवन, प्लान्ट, मशीनरी और फर्नीचर का घसारा खर्च
– इंजीनियरों, सुपरवाइजरो, प्रबंध निदेशक आदि के लिए वेतन।
– डाक, तार, टेलीफोन शुल्क

(२) वेरियेबल ओवरहेड (Variable overhead):
प्रोडक्ट के उत्पादन आकार का बढाना या घटाने का प्रमाण में उतार-चढ़ाव या चलित होते खर्चे को वेरियेबल कहा जाता है। यह सभी खर्चे केवल अप्रत्यक्ष खर्च ही हैं। वेरियेबल ओवरहेड को फ़्लोटिंग ओवरहेड भी कहा जाता है। इस खर्च के उदाहरण निम्नानुसार है:
– प्लान्ट और मशीनरी की मरम्मत, मेइन्टेनन्स खर्च
– प्लान्ट में सामग्री हैंडलिंग, प्रकाश व्यवस्था और हीटिंग के लिए होता खर्च
– अप्रत्यक्ष श्रम और अप्रत्यक्ष सामग्री खर्च
– व्यापार छूट
– पैकिंग, फोर्वडिंग और परिवहन खर्च
– बिक्री के बाद की सेवाओं आदि का खर्च
– बिजली और ईंधन खपत के खर्च
– टोलिंग कोस्ट

२. ओवरहेड खर्च की परिभाषा, उसका श्रेणीकरण और बँटवारा (Terminology assoiciated with overheads, their classification and allocation):
ओवरहेड खर्च को सीधे किसी भी उत्पाद से नहीं जोड़ा जा सकता है। ये लागत उत्पादन मशीनरी को चलाने के लिए बनाई गई हैं। इस प्रकार, यह उत्पादित और वितरित किए जा रहे सभी उत्पादों पर वितरित किया जाता है। हमने लेख 1.3 में ऐसी लागतों के खर्च पर चर्चा की है। हम जानते हैं कि यहां तक ​​कि ओवरहेड खर्च के विभिन्न वर्गों को भी प्रदान किया गया है। इन वर्गों की ओवरहेड खर्च का निम्नानुसार वर्गीकृत किया गया है:

२.१ ओवरहेड्स का वर्गीकरण: 1. प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष ओवरहेड खर्च
2. फैक्टरी ओवरहेड
3. प्रशासनिक ओवरहेड
4. बिक्री और वितरण ओवरहेड
5. फिक्स्ड ओवरहेड
6. परिवर्तनशील ओवरहेड

२.२ ओवरहेड आवंटन:
ओवरहेड खर्च का आवंटन कुल उत्पादन खर्च पता लगाने के लिए एक बहुत ही महत्वपूर्ण कारक है। इसकी परिभाषा इस प्रकार है:
प्रोडक्ट का उत्पादन के लिए किए गए ओवरहेड की लागत विभिन्न उत्पादों पर लगाई जाती है। ओवरहेड लागत की वसुलात करने का यह तरीका ओवरहेड आवंटन कहा जाता हैं। इस ओवरहेड आवंटन का काम बहुत तीव्र है। इस तरीके का आवंटन प्रदान करने के लिए कुछ तरीके विकसित किए गए हैं, उन्हें मान्य तरीके कहा जाता है। ये मान्य तरीके इस प्रकार हैं:
ओवरहेड आवंटन के तरीके:
१. प्रत्यक्ष सामग्री खर्च के प्रतिशत के अनुसार
२. प्रत्यक्ष श्रम खर्च के प्रतिशत के अनुसार
३. प्राइम खर्च के प्रतिशत के अनुसार
४. मेन घंटे का दर का तरीका
५. मशीन घंटे का दर का तरीका
६. मेन और मशीन घंटे का संयुक्त दर का तरीका
७. यूनिट रेट का तरीका

१. प्रत्यक्ष सामग्री खर्च के प्रतिशत के अनुसार:
इस तरह ओवरहेड खर्च का दर खोजने के लिए प्रोडक्ट में उपयोग में लिए गए डायरेक्ट मटिरियल खर्च का आधार लिया जाता हैं। इस प्रकार ओवरहेड व्यय को प्रत्यक्ष सामग्री लागत द्वारा निर्धारित किया जाता है।

आमतौर पर एक ही प्रकार के माप और गुणवत्ता वाले उत्पादों का निर्माण करते हुए औद्योगिक यूनिट में जबकि प्रत्यक्ष सामग्री की लागत बड़ी होती है वहा यह तरीका अपनाया जाता हैं। फाउंड्री, कोयले की खान इत्यादि, इस विधि के माध्यम से ओवरहेड लागतों को वितरित करने के लिए यह विधि काफी आसान है। लेकिन निम्नलिखित मामलों में यह संतोषजनक परिणाम नहीं देता है:
– प्रोडक्ट में विविध सामग्री का जब उपयोग किया जाता है तब सामग्री खर्च भी हरेक सामग्री के लिए विभिन्न किया जाता है। उदाहरण के लिए, जब उत्पाद के लिए स्टील, एल्यूमीनियम, सोना और प्लैटिनम जैसे विभिन्न सामग्रियों में उपयोग किया जाता है, तो खर्च का आवंटन अनुचित है।
– ओवरहेड लागत जैसे की कारखाने का किराया, यंत्रो का घिसावट आदि समय से संबंधित हैं। इस तरह, क्योंकि समय कारक पर ध्यान नहीं दिया जाता है, यह इस तरह के खर्चों के वितरण के लिए यह तरीका उपयोगी नहीं है।
– जब प्रोडक्ट का प्रयक्ष मटिरियल खर्च अधिक हो उसपे यह ओवरहेड खर्च अधिक आरोपित करने उसका कुल उत्पादन लागत और बिक्री मूल्य में वृद्धि होगी। तो यह एक प्रतियोगिता उत्पाद के लिए सही तरीका नहीं है।
– दो उत्पादों की प्रत्यक्ष सामग्री लागत अगर सामान हो तब इस तरीके से ओवरहेड लागत समान रूप से वसूल की जाएगी। लेकिन अगर अधिक कुशल श्रमिकों ने उत्पाद बनाया है, तो ओवरहेड लागत कम हो जाएगी। इसलिए इस तरीके से खर्च आवंटन की होवह गलत होती हैं।
इस तरह, ओवरहेड लागत का आवंटन सीमेंट, पेईन्ट्स, चीनी आदि उत्पादनों के लिए किया जाता हैं।

२. प्रत्यक्ष श्रम खर्च के प्रतिशत के अनुसार:
कुल ओवरहेड लागत और कुल प्रत्यक्ष श्रम व्यय अनुपात द्वारा ओवरहेड लागतों की वितरण दर का पता लगाना आसान है। यह तरीका वास्तविक परिणाम देता है। इस तरह की श्रम लागत में शामिल होने के कारण, यह ओवरहेड व्यय को वितरित करके अच्छे परिणाम देता है। क्योंकि ओवरहेड खर्च जैसे कारखाने का किराया और यंत्रो का घिसावट समय के साथ जुड़ा हुआ है और खर्च वितरण करने के लिए कुछ ही समय का अनुपात खोजने की प्रक्रियाएं की जाती हैं।

प्रोडक्ट का माप और अनुपात हमेशा समान होती है। मजदूरो के प्रकार और उसके वेतन दरो भी एक समान हो और उद्योग में अधिकांश काम हाथ से किया जाता है। वहा इस तरीके को बहुत ही इस्तेमाल में लिया जाता हैं।
मज्रुदी खर्च का अंदाज तैयार होने के तुरन्त ही ओवरहेड व्यय का आवंटन दर पहले से ही निर्धारित किया जा सकता है। इस विधि की सीमाएँ इस प्रकार हैं:
– प्रोडक्ट पे जहां कुशल कारीगरों की लागत अधिक है वहा ओवरहेड खर्च का वितरण अधिक होता हैं जो वास्तव में कम होनी चाहिए।
– मशीन और हाथ दोनों काम करते हैं, जबकि मशीन द्वारा किया गया काम तेज़ है, हालाँकि दोनों के लिए ओवरहेड लागत का वितरण समान रूप से किया जाता है जो वास्तव में अलग होना चाहिए।

३. प्राइम खर्च के प्रतिशत के अनुसार
इस तरह से ओवरहेड खर्च का आवंटन कर ने के लिए प्राइम खर्च का आधार लिया जाता हैं। यह प्राइम खर्च प्रत्यक्ष सामग्री लागत, प्रत्यक्ष श्रम लागत और अन्य प्रत्यक्ष लागतों का योग है।

छोटे व्यवसायों में उपयोग की जाने वाली यह विधि बहुत आसान है। समान उत्पादन की इकाइयों में, जहां वास्तविक सामग्री की लागत और वास्तविक श्रम लागत लगभग समान हैं, वे बेहतर परिणाम देते हैं। इस विधि की सीमाएँ इस प्रकार हैं:
– विभिन्न प्रकार के वेतन दर वाले श्रमिकों रखे गए हो एसी कोई गिनती नहीं की जा सकती हैं।
– भले ही कारखाने में ओवरहेड सामग्री की लागत के साथ संबंध नहीं हैं, लेकिन सामग्री की लागत को शामिल करके आवंटन करने का खर्च विशिष्ट मापदंडों के साथ नहीं रहता है।
– इस विधि में प्रत्यक्ष सामग्री और प्रत्यक्ष श्रम के प्रतिशत के अनुसार दोनों की विधि का नुकसान होते हैं।

४. मेन घंटे का दर का तरीका:
उद्योग में, मशीनों का उपयोग न केवल मशीनों पर किया जाता है, बल्कि अधिकांश कार्य हाथ से किए जाते हैं और विभिन्न वेतनदरो मज़दूरो जहा कम करते हैं वह उपयोग हैं। पदार्थ फिटिंग की दुकान, असेंबली शॉप में ओवरहेड आवंटन, की गणना मेन घंटे का दर की गणना निम्नानुसार की जाती है:

मेन अवर रेट और कुल प्रत्यक्ष मजदूरी के घंटे को गुणा करने से कुल ओवरहेड लागतों खोजा जा सकता है, इस लागत को प्राइम लागत में जोड़कर प्रोडक्ट का उत्पादन खर्च माना जा सकता है। इस पद्धति की सीमाएं हैं, जहां विभिन्न उत्पाद हैं और विभिन्न उपकरण और मशीनें इस तरह से उपयोग नहीं की जाती हैं, इस तरीके से कोई विशिष्ट परिणाम नहीं हैं। क्योंकि श्रम लागत कम होने पर ओवरहेड लागत बढ़ जाती है, ओवरहेड लागत कम होती है और श्रम लागत में वृद्धि होती है। यही कारण है कि उत्पाद की कीमत मूल्य में अधिक बढ़ जाती है। क्योंकि इस तरह प्रत्यक्ष श्रम की लागत से अलग आयाम स्थापित करता है।

५. मशीन घंटे का दर का तरीका:
जे उद्योगों में जहां यंत्रीकृत विधियों के माध्यम से बड़े पैमाने पर उत्पादन होता है। वहा तंत्रों के कारण ओवरहेड व्यय का एक बड़ा हिस्सा होता है। इस प्रकार, बड़े व्यवसायों के लिए इस तरह से ओवरहेड लागत वितरित की जाती है। इस पद्धति का उपयोग करने से प्रत्येक मशीन की चल रही लागत के बारे में जानकारी मिलती है। इसलिए प्रोडक्ट की योजना बनाने और कम मशीनों के उपयोग से हटाने के लिए इतना उपयोगी है।
पूरे कारखाने की ओवरहेड लागत की गणना करने के बाद, इसका वितरण कारखाने के विभिन्न वर्गों में किया जाता है। प्रत्येक विभाग की लागत एक ही प्रकार की मशीनों पर विभाजित होती है। मशीन-समय-दर की गणना प्रत्येक मशीन के ओवरहेड लागत और वर्ष के दौरान मशीन के काम के घंटों के अनुपात की जांच करके गणना की जाती है, वह निन्मानुसार हैं:
इस मशीन के कार्य समय को प्रत्येक मशीन वर्ष में काम करने का अनुमान है, और प्रत्येक खाते के लिए आवंटित ओवरहेड लागत को दो भागों में विभाजित किया जाता है:
(१) निश्चित लागत:
इस लागत को कारखाने का किराये, बिजली, अप्रत्यक्ष श्रम, अप्रत्यक्ष सामग्री, सुपरवाईज़रो का वेतन, बीमा, कर आदि के लिए कारखाने के कई हिस्सों में बांटा गया है। यह अनुपात मशीन के रुकने के क्षेत्र के अनुसार निर्धारित किया जाता है। निश्चित लागत मशीनों को मशीन की कार्य अवधि के अनुसार प्रति मशीन इस निश्चित लागत को चार्ज करके हमारी रेटेड लागत के रूप में गिना जा सकता है।
(२) परिवर्तनीय लागत:
मशीन की मरम्मत, मूल्यह्रास, ईंधन, बिजली आदि परिवर्तनीय की लागत है। इस लागत को काम के घंटे के साथ भाग लेने से परिवर्तनीय लागत का मशीन अवर दर मिलती है। कुल मशीन घंटे की दरों को निश्चित और परिवर्तनीय लागत मशीन घंटे की दरों को जोड़कर गणना की जाती है। मशीन के घंटे की सीमाएँ निम्नानुसार हैं:
– इस प्रकार की मशीन जीवन काल, काम के घंटे, मरम्मत की लागत, मशीन की लागत, रनिंग कॉस्ट नोंध अगर गलत हैं तो यह तरीका गुमराह करता हैं।
– गणना के अत्यधिक संचालन में गलतियां करना संभव है।

६. मेन और मशीन घंटे का संयुक्त दर का तरीका:
इसका उपयोग उस उद्योग में किया जाता है जहां हाथ और मशीन दोनों के साथ काम किया जाता है वहा। इस तरह, अभ्यास में प्रवेश करना मुश्किल है। क्योंकि जो खाता केवल एक मैनुअल के साथ काम करता है, वह आदमी की दर के अधीन है और जिस खाते में केवल मशीनें काम कर रही हैं, हमारी दरों पर मशीनों की कुछ गणनाएँ हैं। मैन आवर रेटिंग का उपयोग फिटिंग की दुकानों, विधानसभा की दुकानों और मशीन-टू-मशीन दरों पर एक ही उद्योग मशीन की दुकान के लिए किया जा सकता है। लेकिन जब एक ही दुकान मशीन और हाथ से काम करती है, तो ओवरहेड कॉस्ट को कंबाइंड मशीन आवर रेट और मैन अवर रेट पर आवंटित किया जा सकता है।

७. यूनिट रेट का तरीका:
इस पद्धति में ओवरहेड लागत साझाकरण निर्मित उत्पादों की संख्या पर आधारित है। जैसे कि किलोग्राम, टन, लीटर, मीटर जैसी प्रोडक्ट की कुल उत्पादन का मापकर की संख्या से कुल ओवरहेड लागत को विभाजित करके प्रति उत्पाद ओवरहेड लागत की गणना की जाती है। यह एक सुविधाजनक तरीका है जब एक समान उत्पाद बनाया जाता है। विभिन्न उत्पादों के होने पर इस पद्धति का उपयोग नहीं किया जाता है। यह तरीका बहुत ही सरल और आसान है।

२.३ विभिन्न वर्गों में ओवरहेड का वितरण (ओवरहेड्स का आवंटन):
कारखाने मे हर विभाग में सुविधा का उपयोग किया जाता है। अनुमान है कि इस तरह की सुविधा की लागत पहली फेक्टरी में कितनी होगी। यह कुल लागत आनुपातिक रूप से प्रत्येक विभाग को वितरित की जाती है जिसमें इसका उपयोग किया जाता है। प्रत्येक विभाग के लिए एक विशिष्ट अनुमान को साझाकरण या आवंटन कहा जाता है। विभिन्न सुविधाओं का वितरण निम्नानुसार किया जाता है:
१. फैक्टरी बिजली:
– प्रत्येक विभाग में अनंत बिजली के बिंदुओं से।
– यदि विभाग एक अलग मीटर लगाता है, तो बिजली की वास्तविक खपत से।
२. फेक्टरी किराया:
– प्रत्येक विभाग के कब्जे वाले स्थान या फर्श से।
३. फैक्टरी इन्स्युरंस:
– प्रत्येक विभाग में किए गए कुल निवेश से।
४. कारखाने के निर्माण की मरम्मत और संरक्षण की लागत:
– प्रत्येक विभाग के कब्जे वाले स्थान के अनुसार।
५. कार्यकर्ता की कैंटीन का खर्च:
– प्रत्येक विभाग में काम करने वाले श्रमिकों की संख्या के अनुसार।
६. कल्याणकारी व्यय:
– प्रत्येक विभाग में काम करने वाले श्रमिकों की संख्या के अनुसार। ७. निरीक्षण व्यय:
– उत्पाद के अनुसार या कारखाना ओवरहेड के अनुसार।
८. ओवरटाइम लागत:
– तदनुसार नौकरी।
– विभाग के अनुसार (यदि विभाग की त्रुटि के कारण ओवरटाइम लागत है)

३. प्रोडक्ट की सेलिंग प्राइस और केटलोग प्राइस का निर्धारण(Determination of Selling Price & Catalogue Price):
– प्रोडक्ट की सेलिंग प्राइस की केल्क्युलेशन करने के लिये नीचे के घटको के खर्च की केल्क्युलेशन करनी होती है। यह सारे घटको का प्लस करने से प्रोडक्ट की टोटल कोस्ट गीन शकते है। टोटल कोस्ट मे नफा पल्स करने से या नुकशान बाद करने से प्रोडक्ट की सेलिंग प्राइस गीन शकते है। – प्रोडक्ट की सेलिंग प्राइस को डिस्ट्रिब्युटर को दिये जानेवाले कमीशन की रकम को प्लस करने से प्रोडक्ट की केटलोग प्राइस मिलती है।

– कोइ भी प्रोडक्ट की सेलिंग प्राइस, प्रोडक्ट बनाने के लिए करने पडते खर्चे नीचे दिए गए हैः
1. प्राइम कोस्ट (Prime Cost)
2. फेक्टरी कोस्ट (Factory Cost)
3. प्रोडक्शन कोस्ट (Production Cost)
4. कुल खर्च (Total Cost)
5. सेलिंग प्राइस (Selling Price)
6. केटलोग प्राइस (Catalogue Price)

(१) प्राइम कोस्ट (Prime Cost):
डायरेक्ट मटिरीयल, डायरेक्ट लेबर और अन्य डायरेक्ट खर्च को जोडने से जो कोस्ट मिलती है उसको प्राइम कोस्ट कहते है।

प्राइम कोस्ट(P.C.) = डायरेक्ट मटिरीयल कोस्ट(D.M.C.) + डायरेक्ट लेबर कोस्ट + अन्य डायरेक्ट कोस्ट(O.D.E.)

P.C. = D.M.C. + D.L.C. + O.D.E.

(२) फेक्टरी कोस्ट (Factory Cost):
प्राइम कोस्ट मे फेक्टरी ओवरहेड खर्च को जोडने से जो कोस्ट मिलती है उसको फेक्टरी कोस्ट कहते है।

फेक्टरी कोस्ट(F.C.) = प्राइम कोस्ट(P.C.) + फेक्टरी ओवरहेड(F.O.)

F.C. = P.C. + F.O.

(३) प्रोडक्शन कोस्ट (Production Cost):
फेक्टरी कोस्ट मे एडमिनिस्ट्रेटिव ओवरहेड खर्च को जोडने से जो कोस्ट मिलती है उसको प्रोडक्शन कोस्ट कहते है।

प्रोडक्शन कोस्ट(Pro.C.) = फेक्टरी कोस्ट(F.C.) + एडमिनिस्ट्रेटिव ओवरहेड(A.O.)

Pro.C. = F.C. + A.O.

(४) कुल कोस्ट (Total Cost):
प्रोडक्शन कोस्ट मे सेल्स और डिस्ट्रिब्युशन ओवरहेड खर्च को जोडने से जो कोस्ट मिलती है उसको कुल कोस्ट कहते है।

कुल कोस्ट(T.C.) = प्रोडक्शन कोस्ट(P.C.) + सेल्स और डिस्ट्रिब्युशन ओवरहेड(S.D.O.)

T.C. = P.C. + S.D.O.

(५) सेलिंग प्राइस (Selling Price):
कुल कोस्ट मे नफे की रकम जोडने से या नुकशान को बाद करने से जो प्राइस मिलती है उसको सेलिंग प्राइस कहते है।

सेलिंग प्राइस(S.P.) = कुल कोस्ट(T.C.) + नफा(P.)

S.P. = T.C. + P.

(६) केटलोग प्राइस (Catalogue Price):
सेलिंग प्राइस मे डिस्ट्रिब्युटर को दिया गया हुआ डिस्काउन्ट या कमिशन की रकम को जोडने से जो प्राइस मिलती है उसको केटलोग प्राइस कहते है।

केटलोग प्राइस(C.P.) = सेलिंग प्राइस(S.P.) + डिस्काउन्ट या कमिशन(D.)

C.P. = S.P. + D.

Or

सेलिंग प्राइस(S.P.) = केटलोग प्राइस(C.P.) – डिस्काउन्ट या कमिशन(D.)

S.P. = C.P. – D.

३.१ सेलिंग प्राइस और कैटलॉग प्राइस का ब्लॉक डायग्राम

३.२ दिए गए विवरणों से विभिन्न खर्चे, बिक्री खर्चे, कैटलॉग की कीमतों और मुनाफे या हानि की गणना के उदाहरण:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Donate Us
error: Content is protected !!